Article of the Month - Astroindusoot

Astro Articles

रुद्राभिषेक से दूर होते हैं कुंडली के ये सभी दोष

यूँ तो भगवान शिव की पूजा और उपासना के लिए बहुत सी विधियां मंत्र और अनुष्ठान प्रचलित हैं परन्तु भगवन शिव जिस एक चीज से सबसे जल्दी प्रश्न होते हैं वो है रुद्राभिषेक और रुद्राभिषेक से हमारा तात्पर्य केवल शाश्त्रोक्त विधि से किये जाने वाले रुद्रभूषक से नहीं हैं अपितु केवल साधारण ढंग से भी यदि श्रद्धा के साथ आप शिवलिंग का जल या दूध से अभिषेक करते हैं तो उसे भी भगवान् आशुतोष उसी प्रकार स्वीकार करते हैं और अपने भक्तों को कृपा प्रदान करते हैं। अब यहाँ विशेष बात ये है के श्रावण या सावन का महीना भगवान् शिव की आराधना के लिए सबसे श्रेष्ठ और विशेष होता है और इस समय में भगवान् शिव (शिवलिंग) का अभिषेक करने से वे शीघ्र ही प्रसन्न हो जाते हैं और अपने आशीष प्रदान करते हैं। सावन के महीने में आप यदि समान्य ढंग से भी रोज भगवान् शिव का दूध या जल से अभिषेक करते हैं तो इससे भी शत्रोक्त रुद्राभिषेक जैसा ही फल आपको प्राप्त होता है।
सावन में रुद्राभिषेक करने से वैसे तो भगवान् शिव की कृपा से जीवन में सर्वसमृद्धि की प्राप्ति होती है पर ज्योतिषीय दृष्टि से भी सावन में किया गया रुद्राभिषेक जन्मपत्री में उपस्थित कई ग्रहदोषों का हरण करता है।

कालसर्प-योग - अगर आपकी कुंडली में कालसर्प-योग है जिससे जीवन में संघर्ष बन हुआ है तो आपको सावन में रुद्राभिषेक करने पर इस कालसर्प योग की शांति हो जाती है और जीवन उन्नति की और आगे बढ़ता है।

केमद्रुम योग - अगर कुंडली में चन्द्रमाँ से केमद्रुम योग बना हुआ है जिस कारण जीवन में मानसिक तनाव और संघर्ष की स्थिति बनी रहती है तो सावन में रुद्राभिषेक करने से आपकी कुंडली के केमद्रुम दोष की भी शांति हो जाती है।

मारकेश की दशा - अगर आपकी कुंडली में मारकेश ग्रहों की दशा चल रही हो जिससे रोग और शारीरिक कष्ट बहुत बढ़ रहे हों तो ऐसे में भी सावन में किया गया रुद्राभिषेक बहुत अचूक कार्य करता है और भगवन शिव की कृपा से मारक ग्रहों की दशा का बुरा परिणाम शांत हो जाता है।

कमजोर चन्द्रमाँ - अगर कुंडली में चन्द्रमाँ कमजोर या पीड़ित हो तो ऐसे में व्यक्ति जीवन भर मानशिक अशांति का शिकार रहता है तो ऐसे व्यक्तियों के लिए भी सावन में किया गया रुद्राभिषेक बहुत शुभ परिणाम देता है।

जिन लोगों को हमेशा मन चलायमान रहने की समस्या हो, मन बहुत भटकता हो, कोन्शनट्रेशन पावर बहुत वीक हो, घबराहट की समस्या हो, डिप्रेशन बहुत रहता हो या हमेशा नकारात्मक विचार मन में आते रहते हों ऐसे लोगों को सावन में रुद्राभिषेक अवश्य करना चाहिए इससे आपको बहुत शीघ्र और बहुत शुभ परिणाम मिलेंगे।

जिन लोगों को हमेशा सर्दी जुखाम, कफ, फेफड़ों से जुडी समस्याएं, अस्थमा, सर दर्द, माइग्रेन और साइनस की समस्या हो ऐसे लोगों को भी सावन में रुद्राभिषेक करने से बहुत शुभ परिणाम मिलते हैं और इन सभी समस्याओं में लाभ होता है।

अब यहाँ जो बहुत जरूरी बात है वो ये है के अगर आप सावन में किसी योग्य ब्राह्मण से विधिवत शाश्त्रोक्त रुद्राभिषेक करा सकते हैं तो अच्छी बात है परन्तु अगर नहीं करा पाते तो इस बात पैट पूर्ण विश्वाश कीजिये के सावन के महीने में यदि आप साधारण ढंग से भी भगवन शिव का अभिषेक करते हैं तो उसका परिणाम आपको शाश्त्रोक्त रुद्राभिषेक जैसा ही मिलता है
आप चाहें मंदिर में या तो फिर अपने घर के पूजा स्थल में भी शिवलिंग रखें और प्रतिदिन जल या दूध जो आप चाहें उससे श्रद्धापूर्वक भगवान् शिव का अभिषेक करें आप पर भगवान् शिव की कृपा अवश्य होगी।

।। श्री हनुमते नमः।।

अगर आप अपने जीवन से जुडी किसी भी समस्या किसी भी प्रश्न जैसे – हैल्थ, एज्युकेशन, करियर, जॉब मैरिज, बिजनेस आदि का सटीक ज्योतिषीय विश्लेषण और समाधान लेना चाहते हैं तो हमारी वैबसाईट पर Online Consultation के ऑप्शन से ऑनलाइन कंसल्टेशन लेकर अपनी समस्या और प्रश्नो का घर बैठे समाधान पा सकते हैं अभी प्लेस करें अपना आर्डर कंसल्ट करें ऑनलाइन
ऑनलाइन कंसल्टेशन की जानकारी के लिए हमारे कस्टमर केयर या वाट्सएप्प नंबर पर भी बात कर सकते हैं
Customer Care – 9027498498



ASTRO ARTICLES