Article of the Month - Astroindusoot

Astro Articles

जानिए कैसे आपके अच्छे व्यवहार से मजबूत हो जाते हैं आपके ग्रह

वैसे तो हमारा जन्म होने पर ही हमारी कुंडली के सभी ग्रहों का बल उसी समय की गौचरीय ग्रहस्थिति से निश्चित हो जाता है और इसी के आधार पर हमारा पूरा जीवन आगे बढ़ता है, लेकिन हमारे तत्कालिक कर्म और व्यवहार भी हमारे जन्मकालीन ग्रहों के बल को प्रभावित करते हैं जिससे आपकी कुंडली के ग्रह कमजोर या मजबूत होते हैं तो आज हम यहाँ नौ-ग्रहों से जुडी कुछ ऐसी बातें (व्यवहार) बता रहे हैं जिनसे आपके ग्रह मजबूत होने लगते हैं

1. अपने पिता की सेवा उनके साथ सद-व्यवहार और सम्मान करने से आपक "सूर्य" मजबूत होता है और इससे आपके जीवन में यश, तेज, आरोग्य और प्रतिष्ठा की वृद्धि होती है।

2. अपनी माता और माता तुल्यों का सम्मान उनकी सेवा सदव्यवहार से आपका "चन्द्रमाँ" मजबूत होता है और इससे आपके जीवन में मानसिक शांति, एकाग्रता और जीवन के लक्ष्यों की पूर्णता बढ़ती है।

3. बड़े भाई और श्रमिक मजदूरों की सेवा उनके साथ सद-व्यवहार से आपका "मंगल" मजबूत होता है और इससे आपके जीवन में पराक्रम निडरता और निर्भयता आती है और आपकी कार्य क्षमता भी बढ़ती है।

4. छोटे बच्चों और अपने छोटे भाई बहनो के अच्छा व्यवहार करने और छोटे बच्चों को प्रसन्न करने से आपका "बुध" मजबूत होता है और इससे आपकी बौद्धिक-क्षमता और वाणी शक्ति बढ़ती है और आपमें प्रतिभा की वृद्धि भी होती है।

5. कर्मकाण्डी ब्राह्मण, गुरु, साधु-संत और बुजुर्ग लोगों की सेवा और धार्मिक स्थलों में दी गयी सेवा से आपका "बृहस्पति" मजबूत होता है और इससे आपके जीवन में ज्ञान, विवेक, सद-बुद्धि बढ़ती है और जीवन में उन्नति होती है।

6. स्त्रियों के प्रति हमेशा सम्मान रखना और उनसे अच्छा व्यवहार और उनकी सहायता या सेवा करने से आपका "शुक्र" मजबूत होता है और इससे आपके जीवन में धन-समृद्धि सुख-सुविधाएँ और वैभव बढ़ता है।

7. गरीब, आवशयकतमंद लोग, विकलांग और अतिवृद्ध व्यक्तियों की सेवा से आपका "शनि" मजबूत होता है और इससे आपके कार्य व्यवसाय में उन्नति और जीवन में सफलता मिलती है और शनि की साढ़ेसाती इत्यादि का नकारात्मक प्रभाव भी कम हो जाता है।

8. आपके पितामाह (दादा/ बाबा और नानी ) की सेवा करने, तामसिक पदार्थों से दूर रहने, झूट ना बोलने और कुसंगति से दूर रहने से आपका "राहु" अच्छा होता है और इससे आपके जीवन में मानसिक स्थिरता आती है, मति भ्रम नहीं होता और राहु की दशा भी शुभ परिणाम देती है।

9. अपनी मातामही (दादी / अम्मा और नाना) की सेवा करने, आध्यात्मिक मार्ग पर चलने से आपका "केतु" अच्छा होता है और केतु की दशा इत्यादि में आपके जीवन में बाधाएं नहीं आतीं।


।। श्री हनुमते नमः।।

अगर आप अपने जीवन से जुडी किसी भी समस्या किसी भी प्रश्न जैसे – हैल्थ, एज्युकेशन, करियर, जॉब मैरिज, बिजनेस आदि का सटीक ज्योतिषीय विश्लेषण और समाधान लेना चाहते हैं तो हमारी वैबसाईट पर Online Consultation के ऑप्शन से ऑनलाइन कंसल्टेशन लेकर अपनी समस्या और प्रश्नो का घर बैठे समाधान पा सकते हैं अभी प्लेस करें अपना आर्डर कंसल्ट करें ऑनलाइन Customer Care & WhatsApp - 9068311666

Download AstroIndusoot Mobile App

ASTRO ARTICLES