Article of the Month - Astroindusoot

Astro Articles

पैरेंट्स अपनाएं बच्चों के लिए ये विशेष एस्ट्रोटिप्स

1. यदि आपका बच्चा इमोशनली बहुत सैंसिटिव है और बात बात पर रोने लगता है तो चांदी की एक ठोस गोली सफ़ेद धागे के साथ उसके गले में धारण कराएं लाभ होगा।

2. यदि टैलेंटेड होने के बाद भी आपके बच्चे में कॉन्फिडेंस की कमी रहती हो तो प्रतिदिन प्रातःकाल में उसके हाथ से सूर्य को जल अर्पित कराएं लाभ होगा।

3. यदि आपका बच्चा बहुत इरिटेटिंग नेचर का है तो प्रतिदिन उसके मस्तक पर सफ़ेद चन्दन का तिलक लगाएं, स्वाभाव में सकारात्मक परिवर्तन होगा।

4. यदि बच्चों के साथ आपकी अच्छी बॉन्डिंग नहीं बन पाती या बच्चों के साथ हमेशा अनबन की स्थिति रहती हैं तो - ॐ ग्राम ग्रीम ग्रोम सः गुरवे नमः का जाप करें लाभ होगा।

5. यदि आपका बच्चा सोते हुए अचानक डर जाता है तो सोते समय उसके सिरहाने या तकिये के नीचे "हनुमान चालीसा" रखें अवश्य लाभ होगा।

6. यदि शिक्षा ग्रहण करने या पढाई में बच्चे की परफॉर्मेंस ख़राब रहती हो तो बच्चे के हाथ से प्रत्येक बुधवार को गणेश जी के मंदिर में मोतीचूर के लड्डू अर्पित कराएं लाभ होगा।

7. यदि आपका बच्चा बहुत जिद्दी है तो अपनी कोई भी बात उससे सौम्यता के साथ ही कहें और प्रत्येक मंगलवार को बच्चे के हाथ से साबुत लाल मसूर का दान कराएं बच्चे के स्वाभाव में सकारात्मक परिवर्तन होगा।

8. यदि बुद्धिमान होने पर भी आपके बच्चे में एकाग्रता की कमी है और उसका मन हमेशा चलायमान रहता है तो सफ़ेद रंग का धागा उसके गले में या हाथ में धारण कराएं लाभ होगा।

9. जिन बच्चों की कुंडली में राहु और शनि आठवे या छटे भाव में हों तो ऐसे बच्चों को डाइजेशन की समस्या, फ़ूड पॉइजनिंग और इंफेक्शन होने समस्या बहुत होती है इसलिए ऐसे बच्चों को बाहर के खाने, जनक फूड्स और ज्यादा मसालेदार खाने से बचाना चाहिए।

10. जिन बच्चों की कुंडली में चन्द्रमाँ नीच राशि (वृश्चिक) में हो, छटे या आठवे भाव में हों ऐसे बच्चों को खाने की ठंडी चीजों से बचाना चाहिए ऐसे बच्चों को कोल्ड कफ की समस्या बहुत होती है।

11. यदि बच्चे को बार बार चोट लगते रहने की समस्या रहती है तो प्रतिदिन उस हनुमान चालीसा का पाठ करके सुनाएँ और बच्चे को भी "हनुमान चालीसा" का पाठ करना सिखाएं लाभ होगा।

12. यदि बच्चे को घबराहट, एंग्जायटी, इरिटेशन और जल्दी डिप्रैस होने की समस्या हो तो बच्चे को काले और गहरे नीले रंग के कपड़े न पहनाएं या इन रंगों का बहुत कम प्रयोग कराएं।

13. यदि बच्चा बहुत जिद्दी और गुस्सा करने वाला हो तो लाल और नारंगी रंग (ऑरेंज) के कपड़ों का प्रयोग न कराएं या इन रंगों का बहुत कम प्रयोग कराएं।

14. घर में बच्चे के पढ़ने की टेबल इस तरह रखें के पढ़ते समय बच्चे का मुख पूर्व या उत्तर दिशा में रहे इससे बच्चे की एकाग्रता अच्छी रहती है।

15. यदि आपका बच्चा अपने मन की बातें आपको नहीं बता पाता या हमेशा हैजिटेट रहता है तो यह कुंडली में बुध कमजोर होने के कारण होता है ऐसे में रोजाना कुछ समय बच्चे के साथ अवश्य बिताना चाहिए और ज्योतिषीय रूप से प्रत्येक बुधवार को बच्चे के हाथ से स्पर्श कराकर हरा चारा गाय को खिलाना बच्चे की इस समस्या में सकारात्मक
होगा।

16. प्रतिदिन सूर्योदय के समय बच्चों को सूर्य दर्शन करने की आदत डालें और प्रतिदिन सूर्य को जल अर्पित कराएं इससे बच्चे की नेत्र ज्योति बढ़ती है आँखों समस्याओं से बचाव होता है साथ ही अच्छे की इम्यून पावर और आत्मविश्वाश भी बढ़ता है।

17. बच्चों को पेड़ पौधों के संपर्क में रखना और पोड़ों में पानी देने की आदत डालना उनके स्नायुतंत्र के विकास, मन और मस्तिष्क की एकाग्रता के लिए बहुत अच्छा होता है क्योंकि इससे बच्चे के बुध (बुद्धि) और चन्द्रमाँ (एकाग्रता) दोनों मजबूत होते हैं।

18. बच्चों के स्टडी रूम में हल्के हरे रंग का प्रयोग करना चाहिए यह मस्तिष्क की एकाग्रता के लिए अच्छा होता है।

19. यदि बच्चे को भूख कम लगने की समस्या हो तो यह कुंडली में कमजोर या पीड़ित बृहस्पति के कारण होता है इसके लिए प्रत्येक बृहस्पतिवार को बेसन के लड्डू बच्चे के हाथ से स्पर्श कराकर गाय को खिलाएं लाभ होगा।

20. जिन बच्चों की कुंडली में बृहस्पति चन्द्रमाँ स्वतंत्र रूप से एक साथ हो तो ऐसे बच्चों का अपनी माँ से बहुत विशेष लगाव होता है।

।। श्री हनुमते नमः।।

अगर आप अपने जीवन से जुडी किसी भी समस्या किसी भी प्रश्न जैसे – हैल्थ, एज्युकेशन, करियर, जॉब मैरिज, बिजनेस आदि का सटीक ज्योतिषीय विश्लेषण और समाधान लेना चाहते हैं तो क्लिक करें ये लिंक -हमारी वैबसाईट पर Online Consultation के ऑप्शन से ऑनलाइन कंसल्टेशन लेकर अपनी समस्या और प्रश्नो का घर बैठे समाधान पा सकते हैं अभी प्लेस करें अपना आर्डर कंसल्ट करें ऑनलाइन Customer Care & WhatsApp - 9068311666

ASTRO ARTICLES