Article of the Month - Astroindusoot

Astro Articles

रक्षा बंधन 2019

रक्षाबंधन पौराणिक, सामाजिक और पारिवारिक महत्व रखने वाला एक त्यौहार है जो भाई बहन के पवित्र रिस्ते को प्यार और रक्षा के धागे से बांधता है। हिन्दू वैदिक पंचांग के अनुसार "श्रावण मास के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि" को रक्षाबंधन का त्यौहार मनाया जाता है, जिसमे बहन अपने भाई की कलाई पर रक्षा सूत्र बांधकर उसके सुखद भविष्य की कामना करती है और भाई भी अपनी बहन की जीवन पर्यन्त रक्षा करने का प्रण लेते हैं। पौराणिक दृष्टि से देखें तो रक्षा बंधन की उत्पत्ति की कथा सतयुग से जुडी है एक समय जब इंद्र युद्ध में दानवो से पराजित होने लगे थे तो उनकी पत्नी इन्द्राणी ने एक रक्षा सूत्र ब्राह्मणों द्वारा मन्त्रों से प्रतिष्ठित कराकर इंद्र की कलाई पर बाँधा था जिससे इंद्र को विजय प्राप्त हुई थी तभी से रक्षा सूत्र बंधने की यह परम्परा चली आ रही है कालांतर में यह परम्परा भाई-बहन के पवित्र रिस्ते के रूप में प्रसिद्ध हुई। अतः रक्षाबंधन भाई बहन के बंधन का पर्व तो है ही परंतु इस दिन सभी जनो को कर्मकाण्डी ब्राह्मण से रक्षासूत्र बंधवाना चाहिए इससे सभी अनिष्टों से रक्षा प्राप्त होती है।

इस बार रक्षाबंधन - इस बार रक्षाबंधन का त्यौहार 15 अगस्त बृहस्पतिवार को मनाया जायगा , इस बार रक्षाबंधन पर विशेष बात यह है के इस बार रक्षाबंधन का दिन पूर्णतः भद्रामुक्त है भद्रा एक अशुभ मुहूर्तकाल होता है जो बीते कई वर्षों से रक्षाबंधन पर पड़ रहा था इस बार भद्रा ना होने से यह रक्षाबंधन के त्यौहार के लिए शुभ सूचक है। अमृत चौघड़िया मुहूर्त को राखी बांधने के लिए सबसे श्रेष्ठ समय माना गया है इसलिए अगर बहने अमृत मुहूर्त में अपने भाई को राखी बाँधें तो इससे भाई जो दीर्घायु और अच्छे स्वास्थ की प्राप्ति होती है … इस रक्षा बंधन पर अमृत मुहूर्त दोपहर 3 बजे से 3:41 बजे के बीच तथा शाम 6:57 से रात 8 : 19 तक रहेगा।

रक्षाबंधन पर राखी बांधने के लिए ये हैं विशेष शुभ चौघड़िया मुहूर्त -

सुबह 6 बजे से 7:30 बजे तक (शुभ)

सुबह 10:48 बजे से दोपहर 12:26 तक (चर)

दोपहर 12:26 से 1:29 बजे तक (लाभ)

दोपहर 3 बजे से 3 :41 बजे तक (अमृत)

शाम 5:19 बजे से 6:57 बजे तक (शुभ)

शाम 6:57 बजे से रात 8:19 बजे तक (अमृत)

हालाँकि ये सभी मुहूर्त राखी बांधने के लिए शुभ हैं अपनी सुविधा के अनुसार इनका उपयोग कर सकते हैं… परन्तु बहन दवारा भाई को राखी बांधने के पीछे बहन की विशेष कामना भाई की जीवन रक्षा के लिए ही होती है इसलिए अमृत चौघड़िया मुहूर्त को राखी बांधने के लिए सबसे श्रेष्ठ समय माना गया है इसलिए अगर बहने अमृत मुहूर्त में अपने भाई को राखी बाँधें तो इससे भाई जो दीर्घायु और अच्छे स्वास्थ की प्राप्ति होती है … इस रक्षा बंधन पर अमृत मुहूर्त दोपहर 3 बजे से 3:41 बजे के बीच तथा शाम 6:57 से रात 8 : 19 तक रहेगा।

इस बार रक्षाबंधन पर दोपहर 1:30 से 15:00 राहुकाल होगा राखी बाँधने के लिए इस समय का त्याग करें

राखी बांधते समय रखे इन बातों का ध्यान -

राखी बांधते समय भाई को पूर्व या उत्तर दिशा की और मुख करके बैठना चाहिए सर्वप्रथम बहन को अपनी अनामिका उंगली (छोटी उँगली के पास वाली) से भाई के मस्तक पर रोली का तिलक लगाकर तिलक पर अक्षत अर्थात साबुत चावल लगाने चाहिए अक्षत अखंड शुभता को प्रदर्सित करते हैं इसके बाद भाई की कलाई पर राखी बांधते हुए उसके मंगल की कामना करनी चाहिए और भाई को आपकी बहन की रक्षा का प्रण लेते हुए उसे उपहार भेंट करने चाहियें।

।। श्री हनुमते नमः।।

अगर आप अपने जीवन से जुडी किसी भी समस्या किसी भी प्रश्न जैसे – हैल्थ, एज्युकेशन, करियर, जॉब मैरिज, बिजनेस आदि का सटीक ज्योतिषीय विश्लेषण और समाधान लेना चाहते हैं तो हमारी वैबसाईट पर Online Consultation के ऑप्शन से ऑनलाइन कंसल्टेशन लेकर अपनी समस्या और प्रश्नो का घर बैठे समाधान पा सकते हैं अभी प्लेस करें अपना आर्डर कंसल्ट करें ऑनलाइन Customer Care & WhatsApp - 9068311666




ASTRO ARTICLES