Article of the Month - Astroindusoot

Astro Articles

मंगल-राहु आ गए हैं एक साथ डेढ़ महीने के लिए बन रहा है अंगारक योग

ज्योतिष में मंगल और राहु दोनों ही उग्र प्रवृति के और उठा पटक कराने वाले ग्रह हैं राहु तो षड़यंत्र, छिपे शत्रु, मतिभ्रम और आकस्मिकता (सड़ननैस) का ग्रह है ही पर मंगल को क्रोध लड़ाई झगड़ा, एक्सीडेंट्स और दुर्घटनाओं का कारक माना गया है इसलिए वैसे तो राहु और मंगल दोनों ही अपने आप में उग्र प्रवृति के ग्रह हैं ही लेकिन जब मंगल और राहु एक साथ आ जाते हैं तो इन दोनों ग्रहों का योग एक बहुत नकारात्मक और उथल पुथल करने वाला योग होता है जिसे हम अंगारक योग कहते हैं...... मंगल और राहु अलग अलग इतने हानिकारक नहीं होते पर इनका योग बहुत ज्यादा उठा पटक कराने वाला होता है और गोचर में जब भी मंगल और राहु का योग होता है तो उस समय में प्राकृतिक सामाजिक व्यक्तिगत सभी स्तरों पर इसके बुरे परिणाम सामने आते हैं जिसमे के प्राकृतिक आपदाएं, रोड एक्सीडेंट्स और समाज में लड़ाई झगडे बढ़ने जैसी समस्याएं सामने आने लगती हैं।

अब वर्तमान की बात करें तो 6 मार्च 2019 को राहु का मिथुन राशि में प्रवेश हुआ था और इस समय राहु मिथुन राशि में ही गोचर कर रहा है और अब 7 मई को सुबह 6 बजकर 52 मिंट पर मंगल का भी मिथुन राशि में प्रवेश हो चुका है जिससे मंगल और राहु एकसाथ होने से अंगारक योग बन गया है जो ज्योतिषीय दृष्टि से बहुत नकारात्मक बात है, मंगल 7 मई से 22 जून तक डेढ़ महीने के लिए मिथुन राशि में ही राहु के साथ रहेगा इसलिए 7 मई से 22 जून के बीच मिथुन राशि में "अंगारक योग" बना रहेगा जिसका नकारात्मक प्रभाव प्राकृतिक सामाजिक और व्यक्तिगत स्तर (पर्सनल लेवल) पर भी होगा इसलिए 7 मई से लेकर 22 जून तक बहुत सावधानी बरतने की आवश्यकता होगी क्योंकि इस बीच बड़े प्राकृतिक उतार चढाव और सामाजिक उठापटक की स्थिति बनेगी। अब डेढ़ महीने मंगल राहु के योग के परिणाम को देखें तो सबसे पहला प्रभाव तो ये होगा के अधिकांश लोगों को गुस्सा बढ़ने और इरिटेशन होने की समस्या बढ़ेगी इसलिए 7 मई के बाद से कोशिश करें के अपने व्यवहार पर नियंत्रण रखें और छोटी मोटी बातों को झगड़ो में ना बदलें। इसके अलावा प्राकृतिक आपदाएं जैसे अनियंत्रित आंधी तूफ़ान और बारिश का होना इसमें भी मंगल क्योंकि भूमि और अग्नि दोनों का कारक है इसलिए 7 मई के बाद डेढ़ महीने के अंदर ख़ास तौर पर भूकंप का आना और अग्नि दुर्घटनाओं के कई बार सामने आने जैसी स्थिति बनेगी, इसके अलावा रोड एक्सीडेंट्स भी इस समय में बढ़ जायेंगे इसलिए इस डेढ़ महीने के समय में सड़क पर वाहन चलाने में सभी को बहुत ज्यादा सावधानी रखनी होगी। मंगल और राहु का योग सामाजिक झगड़ों को भी बढ़ाता है इसलिए 7 मई के बाद सामाजिक स्तर पर भी आपसी झगड़े बढ़ सकते हैं और देश के सम्वेदनशील इलाकों में भी इस डेढ़ महीने के समय में वविवाद की स्थिति बन सकती है इसलिए इस समय में सामाजिक स्तर पर भी सावधनी बरतने की आवश्यकता होगी।

अब मंगल राहु के इस योग को व्यक्तिगत स्तर पर देखें तो मंगल राहु का ये अंगारक योग "मिथुन राशि" में बन रहा है इसलिए इसका सबसे ज्यादा प्रभाव मिथुन राशि के लोगों पर होगा जिस कारण गुस्सा बढ़ना और इरिटेशन होने की समस्या बढ़ेगी इसलिए मियहुँ राशि के लोगों को अपने गुस्से पर नियंत्रण रखना होगा। पर इसके अलावा कर्क वृश्चिक और मीन राशि के लिए भी मंगल राहु का ये योग संघर्ष बढ़ाने वाला होगा, इसमें खास तौर पर वृश्चिक राशि के लोगों को बहुत ज्यादा सावधानी बरतनी होगी क्योंकि ये अंगारक योग वृश्चिक राशि से आठवे भाव में बन रहा है जिस कारण वृश्चिक राशि के लोगों को स्वास्थ समस्याएं और एक्सीडेंट्स का सामना होगा इसलिए वाहन आदि चलाने में बहुत सावधानी रखनी होगी, कर्क राशि के लोगों को धन हानि हो सकती है इसलिए इन्हे पैसों के लेनदेन को लेकर और बड़ी खरीददारी में बहुत सावधानी रखनी होगी और मीन राशि के लोगों को पारिवारिक झगड़ों का सामना होगा इसलिए इन्हे अपने परिवार में शांति बनाये रखने की कोशिश करनी होगी।

अपनी राशि के अनुसार रखें ये विशेष सावधानी -

मेष राशि - छोटे भाई बहनो से बहस करने से बचें।

वृष राशि - आर्थिक लेनदन में सावधानी और अपनी वाणी पर नियंत्रण रखें।

मिथुन राशि - अपने क्रोध को नियंत्रित रखें, व्यव्हार में संयम बरतें और स्वास्थ का ध्यान रखें।

कर्क राशि - आर्थिक लेनदेन में सावधानी रखें, व्यर्थ धन खर्च से बचें।

सिंह राशि - बड़े भाई बहनो से बहस करने से बचें।

कन्या राशि - ऑफिस में सीनियर्स और बोस से आर्ग्यूमेंट्स करने से बचें।

तुला राशि - महत्वपूर्ण कार्यो और निर्णयों में सावधानी बरतें।

वृश्चिक राशि - वाहन चलाने में सावधानी रखें।

धनु राशि - वैवाहिक जीवन में विवाद करने से बचें।

मकर राशि - विरोधियों से सचेत रखें।

कुम्भ राशि - संतान पक्ष के साथ बहस से बचें, शेयर आदि में इन्वेस्ट न करें।

मीन राशि - गृहकलेश और पारिवारिक विवाद से बचें।

राहु मंगल योग के नकारात्मक प्रभाव से बचने के लिए सहायक होंगे ये उपाय –

1. हनुमान चालीसा और संकट मोचन हनुमानाष्टक का पाठ करें।
2. साबुत उड़द का दान करें।
3. महामृत्युंजय मंत्र का जाप करें।

।। श्री हनुमते नमः।।

अगर आप अपने जीवन से जुडी किसी भी समस्या किसी भी प्रश्न जैसे – हैल्थ, एज्युकेशन, करियर, जॉब मैरिज, बिजनेस आदि का सटीक ज्योतिषीय विश्लेषण और समाधान लेना चाहते हैं तो हमारी वैबसाईट पर Online Consultation के ऑप्शन से ऑनलाइन कंसल्टेशन लेकर अपनी समस्या और प्रश्नो का घर बैठे समाधान पा सकते हैं अभी प्लेस करें अपना आर्डर कंसल्ट करें ऑनलाइन Customer Care & WhatsApp - 9068311666

ASTRO ARTICLES