Article of the Month - Astroindusoot

Astro Articles

कमजोर स्वास्थ के ज्योतिषीय कारण

स्वस्थ शरीर ही जीवन निर्वाह के लिए सबसे पहली और सबसे महत्वपूर्ण आवश्यकता होती है स्वस्थ शरीर के द्वारा ही व्यक्ति जीवन में अपने कर्तव्यों की पालन और सुखों का उपभोग कर पाता है और स्वास्थ की स्थिति कमजोर होने पर विभिन्न संघर्ष और रुकावटों से जीवन रूक जाता है …………

“हमारी जन्मकुंडली के बारह भावो में से पहला भाव अर्थात लग्न भाव ही हमारे स्वास्थ और शरीर का प्रतिनिधित्व करता है अर्थात कुंडली में "लग्न भाव" और "लग्नेश" (लग्न का स्वामी ग्रह) की स्थिति ही व्यक्ति के स्वास्थ को निश्चित करती है इसके अतिरिक्त कुंडली का "छटा भाव" रोग या बीमारी का भाव माना गया है और "आठवा भाव" मृत्यु और गम्भीर कष्टो का भाव है अतः व्यक्ति के स्वास्थ की स्थिति के आंकलन के लिए लग्न, लग्नेश, छटे और आठवे भाव का विश्लेषण करना होता है जिन लोगो की कुंडली में लग्न और लग्नेश पीड़ित या कमजोर स्थिति में होते हैं उनका स्वास्थ अधिकतर उतार-चढ़ाव में बना रहता है और ऐसे में व्यक्ति की इम्यून पॉवर (रोगप्रतिरोधक क्षमता) भी कम होती है कुंडली में लग्न और लग्नेश कमजोर या पीड़ित होने पर व्यक्ति जल्दी ही बिमारियों की चपेट में आ जाता है… इसके अलावा यहाँ एक और बहुत महत्वपूर्ण बात है के अगर कुंडली में चन्द्रमाँ कहते या आठवे भाव में हो तो ये इम्यून पावर को भी कम करता है और रोगों को बढ़ता है विशेष रूप से कुंडली में छटा चन्द्रमाँ होने पर व्यक्ति अधिकांश समय बिमारियों की चपेट में रहता है। यदि कुंडली के छटे और आठवे भाव में कोई पाप योग बन रहा हो तो इससे भी व्यक्ति को स्वास्थ समस्याओं का सामना करना पड़ता है, विशेष रूप से किसी व्यक्ति की कुंडली में जो ग्रह छटे या आठवे भाव में बैठे होते हैं और जो ग्रह कुंडली में बहुत पीड़ित स्थिति में होते हैं उन ग्रहों से सम्बंधित स्वास्थ समस्याएं अधिक परेशान करती हैं”

1. कुंडली में यदि लग्नेश पाप भाव विशेषकर छटे या आठवे भाव में हो तो व्यक्ति के शरिर की इम्युनिटी कमजोर होती है व्यक्ति स्वास्थ की और से परेशान रहता है।

2. लग्नेश यदि अपनी नीच राशि में हो तो भी व्यक्ति का स्वास्थ पक्ष कमजोर होता है।

3. कुंडली में लग्नेश का षष्टेश या अष्टमेश के साथ योग भी स्वास्थ को उतार चढाव में रखता है।

4. यदि षष्टेश या अष्टमेश लग्न में हो तो भी व्यक्ति का स्वास्थ समस्याग्रस्त रहता है।

5. चन्द्रमाँ का कुंडली के छटे और आठवे भाव में बैठना इम्युनिटी को कमजोर करता है जिससे व्यक्ति जल्दी ही बिमारियों का शिकार हो जाता है।

6. राहु का आठवे भाव में बैठना भी स्वास्थ में अस्थिरता देता है राहु अष्टम होने से व्यक्ति को जल्दी इंफेक्शन होने की समस्या होती है जिससे जल्दी जल्दी बीमार पड़ने की स्थिति बनी रहती है।

7. यदि लग्न में कोई पाप ग्रह नीच राशि में हो या लग्न में कोई पाप योग बन रहा हो तो भी व्यक्ति का स्वास्थ कमजोर रहता है।

8. कुंडली के आठवे और छटे भाव में अधिक ग्रहों का होना भी स्वास्थ पक्ष के लिए अच्छा नहीं होता।

9. कुंडली में चल रही मारकेश ग्रहों की दशाएं भी अस्थायी रूप से स्वास्थ कष्ट देती हैं

उपाय - यदि शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता कम हो या अधिकतर स्वास्थ समस्याएं रहती हो तो अपनी कुंडली के लग्नेश को मजबूत करें लग्न, षष्ट और अष्टम में बनने वाले पाप योगो के लिए दान करें, लग्नेश का रत्न धारण करें, लग्नेश ग्रह का मन्त्र करें, सामर्थ्यानुसार महामृत्युंजय मन्त्र का नित्य जाप करें, किसी भी प्रकार से सूर्य उपासना अवश्य करें। यदि चन्द्रमाँ छटे / आठवे भाव में हो तो चन्द्रमाँ का मंत्र भी अवश्य करें –

।।श्री हनुमते नमः।।

अगर आप अपने जीवन से जुडी किसी भी समस्या किसी भी प्रश्न जैसे – हैल्थ, एज्युकेशन, करियर, जॉब मैरिज, बिजनेस आदि का सटीक ज्योतिषीय विश्लेषण और समाधान लेना चाहते हैं तो हमारी वैबसाईट पर Online Consultation के ऑप्शन से ऑनलाइन कंसल्टेशन लेकर अपनी समस्या और प्रश्नो का घर बैठे समाधान पा सकते हैं अभी प्लेस करें अपना आर्डर कंसल्ट करें ऑनलाइन Customer Care & WhatsApp - 9068311666

ASTRO ARTICLES